Wifi Mix Study

This blog belongs to motivational quote,study,technical, news, entertainment article..i happy to share knowledge with people.in this blog my main focus on motivate people.And i'm also expect that readers will accompany me.

Breaking

Showing posts with label Aastha. Show all posts
Showing posts with label Aastha. Show all posts

Friday, February 8, 2019

February 08, 2019

बसंत पंचमी/vasant panchamee 2019: जानें मां सरस्वती की वीणा से आपकी वाणी का क्या संबंध है-wifimixstudy

बसंत पंचमी/vasant panchamee 2019: जानें मां सरस्वती की वीणा से आपकी वाणी का क्या संबंध है?
Maa Saraswati 
sharad ritu kee vidaee ke saath maagh shukl panchamee jahaan ek or rturaaj vasant ke aagaman ka soochak hai vaheen doosaree or sangeet va vidya kee devee veenavaadinee maan sarasvatee ke avataran ka din bhee hai. vasant panchamee ko sabhee shubh kaaryon ke lie atyant shubh muhoort maana gaya hai. is paavan tithi ko mukhy roop se vidyaarambh, nav vidya praapti aur grh-pravesh ke lie shubh maana gaya hai.



बसंत ऋतु में सरस्वती साधना

mahaakavi kaalidaas ne rtusanhaar ko kaavy mein ise e sarvapriy chaarutar vasante ’’ kahakar alankrt kiya hai. geeta mein bhagavaan shreekrshn ne rtoonaan kusumakaraah arthaat main rtuon mein vasant hoon, kahakar vasant ko apana svarup bataaya hai. vasant panchamee ke din hee kaamadev aur rati ne pahalee baar maanav hraday mein prem aur aakarshan ka sanchaar kiya tha. is din kaamadev aur rati ke poojan ka uddeshy daampaty jeevan ko sukhamay banaana hai, jabaki sarasvatee poojan ka uddeshy jeevan mein agyaanarupee andhakaar ko door karake gyaan ka prakaash uttpann karana hai.

ऐसे हुआ देवी सरस्वती का प्राकट्य

srshti ke poorv kaal mein bhagavaan vishnu kee aagya se brahma jee ne jeevon khaasataur par maninee kee rachana kee. apanee sarjana se ve santusht nahin the, unhen laga ki kuchh kamee rah gaee hai, jisake kaaran chaaron or maun chhaaya hua hai. bhagavaan vishnu se anumati lekar brahma jee ne apane kamandal se jal nikaalaneka, prthvee par jalak bastarate hee usamen kampann hone laga. isake baad ek chaturbhujee stree ke roop mein adbhut shakti ka praakaty hua, jisake ek haath mein veena aur doosare haath mein var ke roop mein tha. any donon haathon mein pustak aur maala the.


ऐसे मिली जीव-जंतुओं को वाणी 

brahma jee ne devee se veena bajaane ka anurodh kiya. jaise hee devee ne veena ka madhur naad kiya, sansaar ke sabhee jeev-jantuon ko vaanee praapt ho gaee. jaladee mein kolaahal pait ho gaya va pavan chalane se sarasaraahat hone lagee. tab brahmaajee ne us devee ko vaanee kee devee sarasvatee kaha. sarasvatee ko baageeshvaree, bhagavatee, shaarada, vanavaadinee aur baagdevee sahit kaee naamon se pooja jaata hai. ye vidya aur buddhi kee pradaata hain, sangeet kee utpatti karane ke kaaran ye sangeet kee devee kahalaatee hain.

सरस्वती पूजा का रहस्य 

brahmavaivart puraan ke anusaar vasant panchamee ke din shree krshn ne maan sarasvatee ko varadaan diya - sundaree! pratyek brahmaand mein maagh shukl panchamee ke din vidya aarambh ke shubh avasar par bade gaurav ke saath aapakee vishaal pooja hogee. mere var ke prabhaav se aaj se lekar pralayaparyant pratyek kalp mein manushy, manugan, devata, mohakarmee, vasu, yogee, siddh, naag, gandharv aur raakshas-shubhee kee badee bhakti ke saath aapakee pooja karenge. pooja ke pavitr avasar par vidvaan purushon ke dvaara aapakee samyak prakaar se stuti-paath hoga. ve kalash ya pustak mein aapako aavaahit karenge. is prakaar kahakar sarvapoojit bhagavaan shree krshn ne sarvapratham devee sarasvatee kee pooja kee, tatpashchaat brahma, vishnu, shiv aur indr aadi devataon ne bhagavatee sarasvatee kee aaraadhana kee. tabase maan sarasvatee sampoorn praaniyon dvaara sada poojit hone lageen.

इस पूजा से प्रसन्न होंगी माँ सरस्वती 
बसंत पंचमी/vasant panchamee 2019: जानें मां सरस्वती की वीणा से आपकी वाणी का क्या संबंध है?
maa Saraswati 

satvagun se utpann hone ke kaaran inakee pooja mein istemaal hone vaalee vastu adhikaansh: saphed rang kee hotee hain jaise - saphed chandan, saphed vastr, saphed phool, dahee-makkhan, safed til ka laddoo, akshat, ghrt, naariyal aur isaka jal, shreephal, shreephal. ber ityaadi. basant panchamee ke din subah snaanaadi ke pashchaat saphed ya peele kapade pahanakar vidhipoorvak kalash sthaapana karen. maan sarasvatee ke saath bhagavaan ganesh, sooryadev, bhagavaan vishnu aur shivajee kee bhee pooja archana karen. shvet phool-maala ke saath maata ko sindoor va any shrrngaar kee vastuen bhee arpit karen. basant panchamee ke din maata ke charanon par gulaal bhee arpit karane ka vidhaan hai. prasaad mein maan ko peele rang kee mithaee ya kheer ka bhog lagata hai.

basant panchamee ke din  ''ॐ ऐं सरस्वत्यै नमः ''  ka jaap karen.माँ सरस्वती का बीजमंत्र '' ऐं '' है, , jisake uchchaaran maatr se hee buddhi vikasit hotee hai. is din se hee bachchon ko vidya adhyayan praarambh karavaana chaahie. aisa karane se buddhi kushaagr hotee hai aur maan kee krpa jeevan mein sadaiv banee rahatee hai.

Tuesday, October 16, 2018

October 16, 2018

Dussehra

                      दशहरा:विजयादशमी

 दशहरा कब और क्यों

दशहरा हिंदुओं का प्रमुख त्यौहार है|इसका अपना भी अलग महत्व है|यह त्यौहार अश्विन मास के शुक्ल पक्ष की दशमी तिथि को मनाया जाता है प्रभु श्री राम ने इसी दिन रावण का वध किया था तथा देवी दुर्गा नवरात्रि के 10 दिन के युद्ध के उपरांत महिषासुर पर विजय प्राप्त किया था इसे बुराई पर अच्छाई की विजय के रूप में मनाया जाता है अतः इसे विजयादशमी के नाम से भी जाना जाता है|

Dusshera
Dusshera 
इस लोकनायक कार्यारंभ करते हैं और शस्त्र पूजा भी करते हैं इस दिन जो भी कार्य प्रारंभ किया जाता है उसमें विजय मिलती है ऐसा लोगों में विश्वास है इस दिन जगह-जगह मेले का आयोजन होता है|प्राचीन समय में राजा महाराजा इसी दिन प्रार्थना कर रण यात्रा के लिए प्रस्थान करते थे 9 दिनों तक अलग-अलग स्थानों पर सांस्कृतिक कार्यक्रम एवं रामलीला का आयोजन होता है दशहरा का पर्व हर्ष और उल्लास तथा विजय का पर्व है व्यापम हमें काम क्रोध अहंकार आलस्य आदि के परित्याग की भावना प्रदान करते हैं|

वैज्ञानिक कारण

प्रत्येक त्योहार का अपना सांस्कृतिक एवं वैज्ञानिक पहलू भी है| भारत कृषि प्रधान देश है जब किसान अपने खेत में सुनहरी फसल उगा कर जब अनाज रूपी संपत्ति अपने घर लाता है तो उसके उल्लास और उमंग की सीमा नहीं रहती है अतः इस शुभ अवसर पर देवी दुर्गा और भगवान राम की कृपा मानकर उनका पूजन करते हैं  यह त्यौहार भारतवर्ष में अलग-अलग प्रदेशों में अलग अलग प्रकार से मनाया जाता है|

पंजाबी दशहरा

यह पर्व पंजाब में नवरात्रि के रूप में मनाया जाता है संपूर्ण पंजाब में अष्टमी और नवमी के दिन मां दुर्गा की पूजा की जाती है और दशमी के दिन रावण दहन कर मेलों का आयोजन किया जाता है|

दक्षिणी राज्यों का दशहरा

देश के दक्षिण राज्यों में तमिलनाडु आंध्र प्रदेश और कर्नाटक में दशहरा 9 दिनों तक मनाया जाता है मां दुर्गा की पूजा की जाती है यहां दशहरा शिक्षा या कोई भी नया कार्य  संगीत और नृत्य सीखने के लिए शुभ समय होता है|
मैसूर का दशहरा विशेष उल्लेखनीय है

बंगाल असम और उड़ीसा का दशहरा

 बंगाल में यह पर्व दुर्गा पूजा के रूप में मनाया जाता है संपूर्ण बंगाल में 5 दिनों के लिए मनाया जाता है बंगाल का दशहरा विश्व प्रसिद्ध है यहां देवी दुर्गा की मूर्ति तैयार कराई जाती है और भव्य सुशोभित पंडालों में स्थापित की जाती है
इसके उपरांत सप्तमी अष्टमी और नवमी के दिन प्रातः और सायंकाल दुर्गा पूजा होती है दशमी के दिन विशेष पूजा का आयोजन किया जाता है तथा हवन भी होता है स्त्रियां देवी के माथे पर सिंदूर चढ़ाते हैं इसके बाद देवी की प्रतिमाओं के विसर्जन के लिए ले जाया जाता है

नेपाल मारीशस में दशहरा

दशहरा के त्यौहार भारत ही नहीं अपितु पूरे विश्व में वह मनाया जाता है|यह त्यौहार इंडोनेशिया मलेशिया श्रीलंका चीन और थाईलैंड के अलावा विश्व के दूसरे हिस्से में भी हर्षोल्लास के साथ मनाया जाता है|
इंडोनेशिया में रामलीला का आयोजन भी होता है वहां लोग आज भी भगवान राम को सबसे बड़ा नायक मानते हैं नेपाली गोरखा सेना बहुत ही अद्भुत ढंग से दशहरा मनाते हैं|

ऐतिहासिक कारण


भारतीय संस्कृति सदा से ही वीरता व शौर्य की समर्थक रही है। प्रत्येक व्यक्ति और समाज के रुधिर में वीरता का प्रादुर्भाव हो कारण से ही दशहरे का उत्सव मनाया जाता है। यदि कभी युद्ध अनिवार्य ही हो तब शत्रु के आक्रमण की प्रतीक्षा ना कर उस पर हमला कर उसका पराभव करना ही कुशल राजनीति है। भगवान राम के समय से यह दिन विजय प्रस्थान का प्रतीक निश्चित है। भगवान राम ने रावण से युद्ध हेतु इसी दिन प्रस्थान किया था। मराठा रत्न शिवाजी ने भी औरंगजेब के विरुद्ध इसी दिन प्रस्थान करके हिन्दू धर्म का रक्षण किया था। भारतीय इतिहास में अनेक उदाहरण हैं जब हिन्दू राजा इस दिन विजय-प्रस्थान करते थे।